Saturday, February 6, 2021

कवि दोस्त

 उन्होंने सदा मुझे माना

एक प्रतिभाशाली कवि 


वे पेश आते रहे

बेहद विनम्रता से


खुद उत्कृष्ट कवि/पाठक होने के बावजूद

हमेशा संकोच के साथ बताते 

अपनी कविता के बारे में


बल्कि बताते भी नहीं थे

मैं खुद मांगता उनकी कोई कविता 

तो वे बदले में अपनी कविता भूल 

जिक्र करने लगती मेरी किसी पुरानी कविता का


जब-जब कहता मैं

कि अब कवि नहीं रहा हूँ मैं 

तो वे केवल फैला देते एक 

इमोजी वाली मुस्कान


उन्हें इस कदर भरोसा था 

मेरे कवित्त्व पर कि 

मेरे द्वारा प्रंशसित कविता को पढ़कर

वे याद दिला देते मेरी ही कोई कविता

ताकि मैं खुद का मूल्य कमतर न मानू 


उन्हें लगता था खराब

मुझे शब्दहीन और भाव निर्धन देखकर

मगर कभी कहते नहीं थे ये बात


वे प्रार्थनारत थे 

वे उम्मीदजदां थे

कि एकदिन मैं लौट आऊंगा 

अपने फ्लेवर,कलेवर और तेवर में 


उन्हें देख मुझे 

कोई कविता न सूझती थी 

निरुपाय होकर 

बस मैं देखता था उनके हाथ


जिन्हें थामे हुए 

मैं लांघ रहा था 

एकांत का वो गहरा निर्वासन 

जहाँ कविता 

अपना रास्ता भूल गई थी।


©डॉ. अजित

Sunday, December 20, 2020

तस्वीरें

 जिन तस्वीरों में

मैं सुंदर दिखा हूँ 

वे अधिकांश 

उसके द्वारा खींची गई तस्वीरे थी


ऐसा नहीं है कि 

मेरी सभी तस्वीरे अच्छी थी

मगर जिन तस्वीरों में 

मेरी मुस्कान कृत्रिम नहीं दिखती 

वो सब उसके सामने खड़े होने का कमाल था


वो फ़ोटो अच्छे क्लिक करती थी

शायद उसके पास 

खूबसूरत दृष्टि थी 

वो बड़ी सावधानी से चुनती फोटो का एंगल


यदि मैं ले पाता एक 

तो उसके द्वारा मुझे एंगल समझाते हुए की

जरूर लेता एक फोटो


उसके द्वारा खींचे गए हर फोटो पर

एक कहानी लिखी जा सकती है

मगर मैं केवल लिख सका 

कुछ कविताएं 


इनदिनों जब मैं कविताएं 

लिखना भूल गया हूँ 

तो मैं खुद की उन तस्वीरों को देखकर

याद करता हूँ पीछे छूटी हुई कहानियां


मुझे ऐसा करते हुए को 

यदि कोई कर ले कैमरे में कैद 

उस फोटो को देखकर 

वो आदतन कहेगी

'तुम्हारा चेहरा फोटोजेनिक है

इसलिए अच्छी आ जाती है तस्वीर'


मैं इस जवाब पर मुस्कुरा रहा हूँ 

और लिख रहा हूँ 

एक नई कविता

जो कहानी की तरह पढ़ी जाएगी।


©डॉ. अजित

Wednesday, December 9, 2020

बात

 क्या तुम्हारे जीवन में

कोई अन्य स्त्री आ गयी है?

उसने अधिकार से पूछा


मैंने कहा शायद हाँ !


मुझे अच्छा लगता यदि

तुम हाँ से पहले शायद न लगाते

उसने थोड़ा तल्ख़ होकर कहा


और मुझे अच्छा लगता

यदि तुम पूछती

दूसरी स्त्री को देखकर क्या सोचते हो तुम

मैंने कहा


तुम क्या सोचते हो

यह पूछने की जरूरत नही मुझे 

तुम क्या महसूसते हो

यह जानना जरूरी है मेरे लिए

उसने कहा


तुम्हें सब पता है

बताने की जरूरत नही समझता मैं

मैंने कहा


सब पता होने का एक मतलब

कुछ भी पता न होना भी होता है

उसने इतना कहकर 

समाप्त की एक औपचारिक बात।


©डॉ. अजित 

Wednesday, November 25, 2020

हाथ

 उसका हाथ देखकर

उसे थामने की इच्छा होती थी

हर बार


उसके हाथों को पकड़

किया जा सकता था 

दुनिया की हर दुविधा को पार 


उसके हाथों में

आश्वस्ति की गंध थी 

जिसे महसूस किया जा सकता था

अपने देह में किसी कस्तूरी मृग की तरह 


उसकी हथेली की प्रतिलिपि

आज भी सुरक्षित है मेरी 

हस्तरेखाओं के पास 


जब-जब मैंने थामा उसका हाथ 

बदल गया मेरे अनिष्ट का फलादेश 

मुश्किल वक्त में शिद्दत से आता था याद

उसके हाथ का वो गहरा स्पर्श 


जिसमें सन्देह की नमी नहीं थी 

अपनत्व की औषधि थी

जो करती थी मेरा नियमित उपचार।

©डॉ. अजित 




Sunday, September 20, 2020

सारांश

 उसे नींद और बात में से 

किसी एक को चुनना था

उसने नींद में बात करना चुना।

**

उससे अधिकतर बातें

अधूरी रही

हर बात छोड़ी गई उस मोड़ पर

जहां से चलना सम्भव था

मगर लौटना नहीं।

**

आत्मीय बातों में अर्थदोष 

रहना चाहिए

ताकि खिसियाकर कहा जा सके

तुम समझें नही थे दरअसल

यहां 'दरअसल'

सम्भावनाओं का सूत्र रहेगा सदा।

**

बातों में हँसी फिलर की तरह नहीं

उदासी की रही है सदा

जब शब्द चूक जाते हैं

तब मुस्कान आती है काम

मगर हँसी नही आती किसी काम

सिवाय एक इमोजी बनाने के।

**

कुछ बातों की ध्वनि 

प्रेम से नहीं अनुराग से मिलती थी

कुछ बातों में था विशुद्ध प्रेम

कुछ बेहद मतलबी बातें थी

उस एक बात के इंतज़ार में था

हर आत्मीय संवाद 

जो नहीं किया गया कभी आरम्भ।

**

सपनों की बातें सपनों में की जानी चाहिए

और कामनाओं की बातें 

पवित्रता के साथ रखी जाए 

तो मनुष्य बच सकता है

सौंदर्यबोध की अश्लीलताओं से।

**

आखिरी बातें

कभी आखिरी साबित न हुई

जिन्हें समझा गया आखिरी बातें

वो बातें नही थी दरअसल

वो बातों का अनुवाद था उस भाषा में

जिसे हम भूल गए थे कब के।


©डॉ. अजित

Saturday, August 29, 2020

विदा

 इतने चुपके से जाना

जैसे बातचीत से चली जाती है

एक उन्मुक्त हँसी


जब जाना

बताकर मत जाना

अन्यथा प्रतीक्षा हो जाएगी गरिमाहीन


जब भी जाना

कुछ इस तरह से जाना 

जैसे आसमान से बादल चले जाते हैं चुपचाप

ताकि दिखायी देता रहे उसका असीम नीलापन 


जाना कुछ तरह से

कि लोगों को लगता रहे

तुम कहीं नही गए हो

यही हो आसपास 


जब तुम चले जाओ

तो तुम्हारी बातें भी चली जाए 

तुम्हारे साथ


कुछ ऐसी करना कोशिश


जब भी जाना 

इस तरह जाना कि

तुम्हारा आना 

लगा दे विराम 

तमाम आशंकाओं पर 


और तुम्हारा जाना

हो सके सहजता से विस्मृत।


© डॉ. अजित


Tuesday, April 7, 2020

प्रतीक

अभ्यास में चन्द्रबिन्दु सा विस्मृत हूँ
अनाभ्यास में मात्रा की त्रुटि हूँ
व्याकरण में वाक्य दोष हूँ

प्रेम में,लुप्त हुई लिपि का मध्य का एक अक्षर हूँ
मैत्री में विस्मयबोधक अवयव हूँ
लोक में भाषा की दासता से मुक्त एक गीत हूँ

इतना परिचय देना उल्लेखनीय चीज़ नहीं है
दरअसल
परिचय और अपरिचय के मध्य खड़ा एक त्रिकोण हूँ
जिसे शुभता का प्रतीक समझ लिया गया है

शास्त्र का स्वास्तिक इस बात पर नाराज़ है।

©डॉ. अजित

Thursday, February 13, 2020

ऋतु कर्म

भारतीय पंचांग के भरोसे कुछ प्रेम कविताएँ
----

चैत्र
-
राग-बिराग से इतर
बदलते मौसम में
मैं भटकता हूँ एक जंगली फूल की तरह
तुम्हारी खुशबू की तलाश
मुझे ले जाती है अज्ञात नगरों तक
ईश्वर भी जानता है यह बात
तुम्हें देखें बिना
नही करूंगा मैं घोषणा नूतन वर्ष की.
 -
वैशाख
जैसे शाख से लचक कर
टूट जाता है कोई पत्ता
जैसे धरती सिल लेती है
अपनी छोटी मगर गहरी चोट
वैसे ही मिलूंगा मैं तुमसे
इस बार
अवांछित से अप्रत्याशित होकर
-
ज्येष्ठ
सुख मेरा बड़ा भाई है
और दुःख छोटा
बड़े और छोटे के मध्य
मैं हूँ नितांत अकेला 
मेरे पास प्रेम की अनेक कहानियाँ हैं
इसलिए दोनों मुझसे करते रहते हैं
बारी-बारी बात
मैं भूल गया हूँ  दिन,महीने और साल 
सुख-दुःख की माया से बचाना
तुम्हारी जिम्मेदारी है अब.

आषाढ़
-
वो एक बादल था
जो लौटकर जाता था उस तक
हर बार
वो एक धरती थी
जो बदल लेती थी अपना अक्षांश
अकाल और बारिश
दोनों के मध्य फंसकर हो जाते थे भ्रमित
और धरती पर हमेशा
रहस्यमयी लगता था प्राकृतिक न्याय.
--
श्रावण
बूंदे समझाने आती थी
एक बात
तुम यहीं कहीं हो मेरे आसपास
हवा देती अर्घ्य
बादल पढ़ते थे मन्त्र
मैं समिधा सा जल उठता था
अपने बिस्तर पर
और
तुम्हें लगता था
बिजली चमकी है कहीं पर. 
-
भाद्रपद
ताप से लड़ता था तन
मगर ये संक्रमण मन का था
जिसके लिए
नही बनी थी कोई दवाई
मैं मन ही बडबडाता था तुम्हारा
दिल को देता था झूठी तसल्ली
दवा और डॉक्टर को भले  ही मिला हो श्रेय
मगर सच यह है कि
तुम्हें याद करते-करते
ठीक हुआ हूँ मैं. 
-
आश्विन
दुनिया बड़ी सात्विक लगती थी तब
लगता था येन केन प्रकारेण
पहुँच ही जाऊँगा तुम तक
ये अलग बात है
शास्त्रों में कहा गया जिसे योग
वह वियोग था दरअसल
जिसे नही बदल पाया
कोई दैवीय उपवास.
-
कार्तिक
तुम्हारे बिना
मैं शरद का कैसे करता अभिनंदन
इसलिए मैंने चुना मौन
इस बात का बदला रात के तीसरे पहर में
मुझसे लिया रोज.
-
मार्गशीर्ष
ना कोई मार्ग था
ना मैं कहीं शीर्ष पर था
ऐसे में तुम्हें कैसे नजर आता भला?
तुमने जिसदिन याद किया मुझे
वो बात मुझे पता चली
अज्ञातवास में भी
इसलिए मैं जानता हूँ तुमसे मिलने का वो मार्ग
जो शीर्ष होने की अपेक्षा से मुक्त है.
-
पौष
संबंधों में यदि शीत पसर जाए
उसे देखना चाहिए हस्तक्षेप रहित होकर
इस तरह देखना आपको कर सकता है मुक्त
पारस्परिक दोषारोपण से
इस तरह से देखना
शीत को नही आता है पसंद
वो पिघलने लगता है
खुद-ब-खुद.
-
माघ
कई कहावतें सुनी
कई आशंकाएं जन्मी
मगर प्रेम का फलादेश
बांचने से बच गया मैं
इसलिए बच गयी
हमेशा संभवानाएँ
इसी कारण
ऋतु दोष का
निर्धारण करने के लिए
खुद अधिकृत किया मुझे ईश्वर ने.
-
फाल्गुन
जीवन में वसंत
और वसंत में जीवन
महसूसने के लिए
तुम एक माध्यम रही
प्रेम ने मुझे भावुक नही
कृतज्ञ होना सिखाया.


© डॉ. अजित

Monday, December 23, 2019

बातें


उसने पूछा नही
और मैंने बताया नही
हवा में झूलती एक महीन लकीर
हम दोनों को नजर आती थी मगर

वो लकीर दो देशों के मध्य खींची सीमा रेखा नही थी

इसलिए हम टहल सकते थे उसके आर-पार
अपनी सुविधा से

निर्वासन से पहले
जब मैं तलाश रहा था
उस देश का नक्शा
जहाँ मनुष्य को रुकने लिए
अपना परिचय नही देना पड़ता

तब मुझे याद आती थी वो महीन लकीर

उसका मिलान
मैंने किया कई मानचित्रों से
उससे मिलती जुलती कोई लकीर नही थी
इसलिए मुझे हमेशा संदिग्ध लगता था
विश्व नागरिक का विचार

यदि उसने पूछा होता
तो मैं शायद यह बात जरूर बताता
कोई भी लकीर कितनी महीन क्यों ना हो
वो हमें बांटती जरूर है
थोड़ा हिस्सों में
थोड़ा किस्सों में

दुनिया ऐसी ना दिखने वाली
महीन लकीरों का मानचित्र हैं

जहां हम मान सकते हैं
कि जो हमारे साथ खड़ा है
या हम जिसके साथ खड़े हैं
वो एक ही जगह से सबंधित है.

© डॉ. अजित


Friday, November 29, 2019

कविता काल

मैंने कविता का नही
कविता ने मेरा चुनाव किया था

कविता ने खुद तय किया था
अपना रुकने का काल

मैं इतना मुग्ध था कविता के
इस निर्णय पर
कि लिखता गया सबके मन की बात
अपने मन की बात

दरअसल, मैंने कुछ भी नही लिखा
सब लिखा हुआ कहीं पहले से
मैं जरिया भर था
शब्दों को आकर देने का

मैंने कोई कविता नही लिखी
कविता ने मेरे जरिए लिखी अपनी बात

मेरे अंदर कभी न उपज सका
एक कवि जितना आत्मविश्वास
नही कर सका मैं कोई नियोजन
ताकि लोक में मुझे समझा जाए कवि

यह कविता का ही था कोई प्रयोजन
ईश्वर जाने!

अब जब कविता नही है मेरे पास
मैं खुद को देखता हूँ अवाक

जब कोई पढ़वाता है
मेरी कविता मुझे
और करता है प्रशंसा

मैं देखता हूँ आसमान की तरफ
यह सोचकर

कविता मुझे यूं देखकर
जरूर मुस्कुराती होगी।

© डॉ. अजित

Wednesday, November 27, 2019

बदलाव


उसने कहा
तुम्हारी आदतें बदल गई कुछ
इस बात मुझे खुश होना चाहिए
मगर मुझे अच्छा नही लग रहा है

कुछ आदतें कभी नही बदलनी चाहिए

इस बात का अहसास अब हुआ है मुझे

मैंने कहा
बदलाव जीवन का सच है

मगर ज़िन्दगी जीने के लिए हमेशा हमें
चाहिए होता है कुछ प्रतिशत झूठ

इस प्रतिशत को निचोड़ा जा सकता है
वर्तमान और भविष्य से बारी-बारी
उसने कहा

फिर मैंने कुछ नही कहा
और देखा बदलाव को सूखते हुए
कामना के तार पर  
धूप और हवा के बिना.

© डॉ. अजित

Tuesday, September 24, 2019

आदत


मैंने तुम्हें
मेरी आदत नही होने दी
जब-जब ऐसा लगा
तुम राग से हो रही हो अधीर
हंसकर पूछती हो प्रश्न अति-गम्भीर
मैं सतर्क हो गया
ठीक उसी वक्त
बदल दिया बातचीत का विषय
और हमारे मध्य
खींच दी एक महीन लकीर

जानता हूँ
तुम्हें मेरा उपरोक्त दावा
एकदम झूठा लगेगा
मगर यह उतना भी झूठा नही है

मैं जानता था यह बात
आदत बहुत धीरे-धीरे लगती है
मगर एक बार अगर लग जाए यह
फिर मुश्किलें होती हैं बहुत
मन हो जाता चातक
और बुद्धि भाग्यवादी  

ऐसा नही है कि
मैं हमेशा था चालाक
अलबत्ता तुम्हारे सामने
चल भी नही पाती
मेरी कोई चालाकी

बस, मैंने बचाया तुम्हें
आदत होने के उपक्रम से
क्योंकि
अगर किसी भी आदत नही होनी चाहिए
चाहे वो दोस्त हो या प्रेमी

तुमसे मिलनें से पहले
मैं जानता था यह बात
किसी की आदत होना
उसे खोना है

इसलिए मैंने बचाया
तुम्हें और खुद को
उस खोने से
हमेशा के लिए.
© डॉ. अजित

Monday, September 23, 2019

स्त्री मन की कविताएँ


स्त्री बड़ी देर से करती है
किसी का तिरस्कार
वो ओढ़ लेती है
प्यार को बचाने की
सारी जिम्मेदारी खुद पर
वो करती रहती है रफू
मन को देकर तसल्ली
मगर
जब कोई होता है
उसके जीवन से
उसकी इच्छा से अनुपस्थित
फिर तिरस्कार बन जाता है
एक बेहद छोटा शब्द.
**
स्त्री प्रेम न करे
ऐसा संभव नही
जरूरी नही वो प्रेम
किसी पुरुष से किया जाए
स्त्री प्रेम करने के लिए बनी है
दुनिया में बचा हुआ प्रेम
स्त्रियों के कारण
पुरुषों के पास प्रेम की व्याख्याएं है
और स्त्रियों के पास
प्रेम की मूल पांडुलिपि.
**
स्त्री और पुरुष
दो स्वतंत्र सत्ताएं है
दरअसल
जिन्हें समानांतर कह कर
हम एक सूत्र में बाँधने का
करते है प्रयास
यह एक मानवीय भूल है
दुनिया के तमाम बिगड़े हुए रिश्तें
इसी भूल का हैं परिणाम.
**
घृणा और प्रेम
किसी से भी किया जा सकता है
मगर
किसी से एक साथ यह कर सकती
केवल स्त्री.
**
थकी हुई स्त्री
और हारा हुआ पुरुष
दिखतें है एक जैसे
मगर जानबूझकर वो
कम पड़ते है
एकदूसरे के सामने
इसलिए भी रहते हैं दोनों
एकदूसरे से अजनबी.

© डॉ. अजित

Thursday, September 19, 2019

बीमारी

बीमारी अकेले आती है
एकदम दबे पांव

लेती है घर का जायज़ा
एकदम चुपचाप

चुनती है अपने ठिकाने
सिलसिलेवार

विजय-पराजय के भाव से
औषधियों से
करती है रोज़ खुलकर सामना

सदकामनाएं खोजती है
अपने बिछड़े हुए भाई बन्धु
जाती है दोस्तों के सपनों में
भेष बदलकर
ताकि उन्हें बता सके हमारा हालचाल
जो ईश्वर से भी पहले
हर बीमारी में आते हैं हमें याद

बीमार आदमी दवाई के साथ
हिचकियों को भी रखता है हिसाब

बीमारी देर से जाती है
और जाते-जाते छोड़ जाती
अपने निशान

ताकि मनुष्य को याद रहे
खुद का मनुष्य होना
और ईश्वर को याद रहे
मनुष्य का दृष्टा होना।

©डॉ. अजित

Wednesday, September 18, 2019

अपना खेत


खेत खलिहान पर जाती हर पगडंडी
की स्मृति इतनी मजबूत है
वह बता सकती है
मेरे पूर्वजों की जूती का नाप  
उनकी फटी बिवाई से झरी हुई  
मिट्टी की मात्रा

खेत की हवा और पानी
दोनों जानती है
पीढ़ियों तक की देहगंध और प्यास
उन्हें नही जरूरत किसी विज्ञान की
मुझे पहचानने के लिए

खेत मुझे दूर से आता देख
खुश हो सकता है
फसलों को दे सकता है आदेश
मुझे आता देख झूमने के लिए
वो बाट जोह सकता है मेरी
कई पीढ़ियों तक

वो हो सकता है चिंतित
मेरे न आने पर
वो भेज सकता है मेरे पास
अपनी शुभकामनाएं शहर तक

वो आ सकता है अपनी इच्छा से कभी भी
भोर के सपनें में किसी पुराने दोस्त की शक्ल लेकर उधार

खेत की जिस मिट्टी में
उगता है अन्न
वहीं उगता है मेरा एक दूसरा मन
जो सबकी खबर रखता है
मगर खुद की खबर नही देता है किसी को

जानने के लिए उसका हाल चाल
मुझे एक खेत चाहिए बस
और
जरूरी नही वो मेरा अपना खेत हो.

© डॉ. अजित  

Tuesday, September 17, 2019

वेग

कभी नदियों के वेग से
तराशे हुए पत्थर देखना
कितने स्वच्छ निर्मल
और पुनीत नजर आएंगे

निरंतर चोट से बने कटाव
गहरे मगर साफ होते है

चोट देना हर बार
हिंसा नही होती हर बार
किसी के पास जाकर
बार-बार वापस लौटना

मांग करता है
एक खास किस्म की तैयारी की

दरअसल यह
एक अभ्यास है
उस भविष्य का
जब पत्थर रह जाता है अकेला
और वेग को चुनना पड़ता है
एक नया पत्थर
सतत चोट के लिए

यह बात प्रेम पर भी
लागू की जा सकती है

बशर्ते पत्थर और नदी
का नाम बताने का
आग्रह न किया जाए।

© डॉ. अजित

Friday, May 17, 2019

अधूरी बातें


हमारी कुछ बातें
हमेशा अधूरी ही रही
हम निष्कर्षों को टालते रहते

अधूरेपन के साथ जीना आसान था
निष्कर्षों के साथ मुश्किल
अधूरी बातें उम्मीद जगाती थी
और पूरी बातें हमेशा के लिए खो जाती थी

उसके हाथों की लकीरों में
कुछ ऐसी मारकाट थी
जैसे किसी युद्ध का अमूर्त चित्र  ईश्वर ने
संरक्षित कर दिया हो उसकी हथेली पर

उसका हाथ देखते हुए
होती थी दुनिया से युद्ध लड़ने की हर बार
मगर वो हमेशा देखती मेरा हाथ
लेती मेरी रेखाओं की प्रतिलिपि
अपने माथे पर

ऐसे करते हुए उसकी आँखों में पढ़ी
जा सकती थी एक बात
वही बातें अधूरी अच्छी लगती है
जो पूरी हो सकती हो मगर
न की गई हो पूरी.

© डॉ. अजित  


Sunday, May 12, 2019

कहना


तुम करना उससे निवेदन
पूछना उससे उसका नैतिक बोझ
बताना, मगर समझाना नही
सही गलत के अपने दृष्टिकोण

छोड़ देना समय के पास
वर्जनाओं के सारे ज्ञात संस्करण

स्वत: तय होने देना
प्रेम और कामना का वर्गीकरण

स्पर्शों की आंच में सिकने देना
ज्ञात-अज्ञात के सारे अनुभव

निहारना उसे
किसी निर्वासित ऋषि की दृष्टि से
सुनना उसकी अन्तस् पुकार

होने देना घटित
प्रिय-अप्रिय सब एक साथ

एकदिन पता चलेगा तुम्हें खुद
सम्बन्धों का सारांश

फिर कहना यह बात
मैं ठीक से समझ नही पाया उसको.

©डॉ. अजित