Thursday, May 10, 2012

जंगल


तुमने कहा
चलो चलते है
मै चला
फिर कहा ऐसे नही चलते
मै रुक गया
फिर हम चले
और चलते गये
निसंवाद
आज भी उन्ही कदमों
का पीछा करते चल रहा हूँ
तुम कभी बोझिल हो जाते हो
कभी जीवंत
ऐसे हमसफर के साथ
चल कर मंजिल को देखना
अब बस एक शगल है मेरा
न तुम्हे कहीं पहूंचना है
और न मुझे ही
फिर लोग क्यों अपेक्षाओं के
शुष्क जंगल में
हमारा पीछा कर रहे है
डरो नही!
हमारी परछाई हम से बडी
नज़र आ रही है
इसलिए खतरे की बात नही
बस चलो...
इससे पहले कि सांझ हो जाएं...।
डॉ.अजीत

1 comment:

Pallavi said...

गहन भाव आभिव्यक्ति .... समय मिले आपको तो आयेगा मेरी पोस्ट पर आपका स्वागत है
http://mhare-anubhav.blogspot.co.uk/ धन्यवाद....