Saturday, August 7, 2010

सफर

मौसम का मिज़ाज हादसों से क्या कहते

गुनाहगार बन कर हमराह कैसे रहते

वजूद बेख्याली मे बिखर गया

किनारे कब तक नदी के साथ बहते

हिम्मत पे तनकीद सब्र का इम्तिहान थी

तजरबे पर सवाल कैसे सहते

मै बिखरा हूं अपनी कमजोरियों से

तुम संवरने से पहले अपना हाल कहते

मंजिल ही न तय कर सका वो मुसाफिर

मील के पत्थर सफर की क्या दास्तां कहते

लौट आए हो तो ये मशविरा करके जाना

तन्हा मुसाफिर के इंतजार मे रस्ते नही रहते

दुआ उस फकीर की महफूज रखना

अंधेरा जब ज्यादा हो

जरा सी हवा चराग नही सहते..।

डा.अजीत

5 comments:

pawan lalchand said...

मंजिल ही न तय कर सका वो मुसाफिर
मील के पत्थर सफर की क्या दास्तां कहते.....bahut badhiya likha hai Dr.saab ..ab to ye bhrm bhi hone lga hai ki aap kavi bad mein hain aur shair pahle...

shikha varshney said...

बहुत खूबसूरत अभिव्यक्ति है .अच्छा लगा आपकी रचनाये पढकर..
ब्लॉग पर इज्जत अफजाई का बहुत शुक्रिया .

संजय भास्कर said...

सुंदर शब्दों के साथ.... बहुत सुंदर अभिव्यक्ति....

संजय भास्कर said...

Maaf kijiyga kai dino bahar hone ke kaaran blog par nahi aa skaa
"माफ़ी"--बहुत दिनों से आपकी पोस्ट न पढ पाने के लिए ...

Babli said...

*********--,_
********['****'*********\*******`''|
*********|*********,]
**********`._******].
************|***************__/*******-'*********,'**********,'
*******_/'**********\*********************,....__
**|--''**************'-;__********|\*****_/******.,'
***\**********************`--.__,'_*'----*****,-'
***`\*****************************\`-'\__****,|
,--;_/*******HAPPY INDEPENDENCE*_/*****.|*,/
\__************** DAY **********'|****_/**_/*
**._/**_-,*************************_|***
**\___/*_/************************,_/
*******|**********************_/
*******|********************,/
*******\********************/
********|**************/.-'
*********\***********_/
**********|*********/
***********|********|
******.****|********|
******;*****\*******/
******'******|*****|
*************\****_|
**************\_,/

स्वतंत्रता दिवस के मौके पर आप एवं आपके परिवार का हार्दिक अभिनन्दन एवं शुभकामनाएँ !