Wednesday, July 23, 2014

विश्लेषण

कुछ लोग मुझसे डरे हुए थे
उन्हें डर था
मै उनका शोषण कर सकता था
यह शोषण मनोवैज्ञानिक होता हुआ भी
दैहिक जैसा हो सकता था
या फिर शायद आर्थिक
कुछ लोग मुझे प्रेम कर रहे थे
उनका प्रेम
लौकिक अलौकिक त्रिलौकिक जैसा था
उसमे एकाधिकार और प्रतिकार की जुगलबन्दी थी
मेरी इच्छा जाने बगैर
मुझे पाने की जिद उसमे शामिल थी
कुछ लोग मुझसे नफरत कर रहे थे
उनकी नफरत में
अपेक्षाओं के टूट जाने की वाजिब वजह
शामिल थी
उनके लिए मै एक बुद्धिमान
षड्यंत्रकारी था
कुछ लोग केवल साक्षी, दृष्टा और तटस्थ थे
वो दिन ब दिन बदलते रिश्तों की लोच देख
कौतुहल से भरे थे
कुछ लोग विश्लेषण में लिप्त थे
वो बुद्धि के बीजगणित और
मानवीय सम्बन्धों की ज्यामिति से
मेरे मन का नक्शा बना रहे थे
इन सब के बीच
मै शोध विषय सा टंगा था
मेरा मूल्यांकन इतने किस्म किस्म के लोगो से
भिन्न भिन्न तरीके से हुआ
सबके निष्कर्ष में सार्थकता के स्तर का
विरोधाभास था
शायद यही वजह थी कि
जब भी दो लोग मेरे बारें में बात करते तो
वो उलझी हुई बहस में तब्दील हो जाती
किस्तों और हिस्सों में
जिन्दगी जीता हुआ मै
केवल मुस्कुरा सकता था
अपने आस पास के लोगो
को प्रासंगिक बनाए रखने के लिए यह
साँसों जितना जरूरी था
क्योंकि
जिस दिन मै टूटना शुरू होता
उस दिन एक भीड़
हंसती- रोती हुई पागल हो सकती थी
और वो दोस्त हो या दुश्मन
कोई भी अपने चाहने वालों
यह हश्र कभी नही चाहता
मै तो फिर भी मै था।
© अजीत