Wednesday, April 22, 2015

दूरी

जिन दिनों तुमसे दूर था मैं
चाँद को बुला लेता था
अपनें सिरहानें
दिखाता था उसे उपग्रह से प्राप्त चित्र
बादलों के छलावे देख
खुलकर हंसता था चांद
उन दिनों
बरसात से मांगता था
थोड़ी सी चटनी उधार
ताकि जीने लायक खा सकूँ रोटी
जिन दिनों तुमसे दूर था
धरती पर पंजो के बल खड़े होकर
देखता था तुम्हारा आना
और धरती अपनी जीभ से
तलवें पर ऐसी गुदगुदी करती
उदासी में भी हंसते हुए
नाचने लगता था मैं
उन दिनों
आवारा खरपतवारों से थी दोस्ती
उनसे सीखता था बेरुखी में जीने की आदत
थोड़ी सी जिद थोड़ा सा जुनून
कल्पना के दीपक पर
निकालता था उम्मीद की स्याही
ताकि आंसूओं के बीच सलामत रहे रोशनी
उन दिनों
तालाब से मांगता था थोड़ा धीरज उधार
नदी में पैर से बनाता था
तुम्हारे घर का मानचित्र
ताकि बहती रहें तुमसें
मिलनें की संभावना
समन्दर की तरफ पीठ करके
फूंकता था सम्मोहन के सिद्ध मंत्र
ताकि वक्त भले ही लगे मगर
नदी की तरह एकदिन
तुम मिलनें आओं जरूर
जिन दिनों तुमसें दूर था मैं
उन दिनों
खुद के इतना नजदीक था कि
तुम्हें एक साथ करते हुए
देख सकता था
मुझसे नफरत और प्यार।


© डॉ.अजीत